खास खबर मीडिया मिर्ची

तेलंगाना में समय पूर्व होंगे चुनाव, राज्यपाल ने मानी विधानसभा भंग करने की सिफारिश

06_09_2018-rao_18395489

तेलंगाना की राजनीति में बड़ी हलचल देखने को मिली है। राज्य सरकार की सिफारिश के बाद तेलंगाना के राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन ने विधानसभा भंग करने की मंजूरी दे दी है। राज्य के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने गुरुवार को राज्यपाल से मुलाकात कर विधानसभा भंग करने की सिफारिश की थी। इस संबंध में सीएम की अध्यक्षता में कैबिनेट में प्रस्ताव पास किया था। अब अगली सरकार के गठन तक चंद्रशेखर राव कार्यवाहक सीएम के पद पर रहेंगे।

कहा जाता है कि चंद्रशेखर राव अपने लिए छह अंक को लकी मानते हैं, यही वजह है कि उन्होंने इसके लिए छह सितंबर की तारीख चुनी। बता दें कि तेलंगाना में पहली विधानसभा के लिए मई 2014 में चुनाव हुए थे। राव का कार्यकाल मई 2019 में पूरा हो रहा है। ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि राव लोकसभा चुनाव के साथ राज्य के विधानसभा चुनाव कराने के पक्ष में नहीं हैं। वे इस साल के अंत में होने वाले 4 राज्यों के विधानसभा चुनाव के साथ ही तेलंगाना में चुनाव कराना चाहते हैं।

बता दें कि पिछले सप्ताह चंद्रशेखर राव ने दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की थी। तभी से राज्य में समय पूर्व चुनाव की अटकलें लगनीं शुरू हुईं। सूत्र बता रहे हैं कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी तेलंगाना के भाजपा नेताओं को बता दिया है कि साल के आखिर में अगर विधानसभा चुनाव हों तो उसके मद्देनजर तैयार रहें।

कांग्रेस-टीडीपी कर सकती है गठबंधन
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कांग्रेस और टीडीपी मिलकर विधानसभा और लोकसभा चुनाव में एक साथ उतर सकती है। इसके लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और टीडीपी प्रमुख चंद्रबाबू नायडू के बीच चुनावी प्रक्रिया को लेकर आपसी समझ पहले से ही बन चुकी है। आंध्र प्रदेश के विभाजन के बाद चंद्रबाबू नायडू हैदराबाद से शिफ्ट हो हैं। लेकिन, तेलंगाना के कई विधानसभा क्षेत्रों में खासकर ग्रेटर हैदराबाद में उनती पकड़ अभी भी मजबूत है। गौरतलब है कि 2014 के चुनावों में टीडीपी-भाजपा गठबंधन ने 24 विधानसभा सीटों में से 14 सीटें जीती थीं।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने कहा आज हम 105 उम्मीदवारों की एक सूची की घोषणा कर रहे हैं।वहीं चुनाव आयोग ने कहा है कि उन्हें इस संबंध में कोई भी औपचारिक सूचना नहीं मिली है। जब हमें आधिकारिक अधिसूचना मिलेगी, तब हम इस पर विचार-विमर्श करेंगे।