खास खबर चीखते सवाल

दिल्‍ली सीएम ऑफिस में धरने पर बैठे AAP से निष्‍काषित विधायक

aap-1-620x400

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपनी विभिन्न मांगों को लेकर अपने कैबिनेट सहयोगियों के साथ तीन दिनों से उप-राज्यपाल अनिल बैजल के घर पर धरने पर बैठे हैं। पार्टी के नेता और कैबिनेट मंत्री सतेंद्र जैन तथा उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने तो अनशन भी शुरू कर दिया है। लेकिन इधर अब आम आदमी पार्टी के बागी नेता दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के कार्यालय में धरने पर बैठ गए हैं। बागी नेताओं ने सीएम के दफ्तर से कुछ उसी अंदाज में ट्वीट किया है जिस अंदाज में इससे पहले उपराज्यपाल के घर पर धरना पर बैठे डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने ट्वीट किया था। पार्टी के बागी नेता कपिल मिश्रा ने लिखा कि ये दिल्ली का CM ऑफिस है। हम दिल्ली के CM केजरीवाल के वेटिंग रूम में बैठे हैं। हम यहां “धरने” पर बैठे हैं
तीन मांगे-
1. केजरीवाल नौटंकी बंद करें
2. CM काम पर वापस लौटें
3. दिल्ली की जनता को पानी दो
प्रवेश वर्मा जी, विजेंदर गुप्ता जी, सिरसा जी, जगदीश प्रधान जी और कपिल मिश्रा

इससे पहले सोमवार (11 जून) को अरविंद केजरीवाल अपने कुछ कैबिनेट मंत्रियों के साथ उप राज्यपाल अनिल बैजल से मिलने उनके घर गए थे। अनिल बैजल के सामने अरविंद केजरीवाल ने अपनी कुछ मांगें रखी थीं, जिसे उप राज्यपाल ने मानने से इनकार कर दिया था। जिसके बाद से अरविंद केजरीवाल अपने सहयोगियों के साथ वेटिंग रुम में धरने पर बैठ गए।

कौन-कौन हैं वेटिंग रुम में? उपराज्यपाल के यहां वेटिंग रुम में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के अलावा कैबिनेट मंत्री गोपाल राय और सतेंद्र जैन भी मौजूद हैं।

सीएम ने तीन मांगें रखी हैं:
1. दिल्ली में चार महीने से हड़ताल कर रहे आईएएस अधिकारियों को तत्काल काम पर लौटने के निर्देश दिये जाएं
2. चार महीने से काम रोकने वाले आईएएस अधिकारियों पर कार्रवाई हो
3. राशन की घर पहुंच व्यवस्था को स्वीकृति प्रदान की जाए

बहरहाल एक तरफ दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल राज्यपाल के यहां वेटिंग रुम में धरने पर हैं तो सीएम दफ्तर के वेटिंग रुम में आप के बागी अपनी मांगों को लेकर धरने पर हैं। इन सब के बीच विपक्षी पार्टी के नेताओं ने आरोप लगाया है कि इससे दिल्ली में तमाम सरकारी कामधाम रुके पड़े हैं और जनता परेशान है।