खास खबर भड़ास

ट्विटर पर दुनिया की दो महाशक्तियों की टक्कर

World's twin superpowers collide on twitter

सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर दुनिया की दो महाशक्तियों की टक्कर चर्चा में है। ये टक्कर है अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप और ब्रिटिश राष्ट्राध्यक्ष थेरेसा मे के बीच। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर थेरेसा मे से कहा, ‘मुझपर ध्यान देने के बजाए आप यूनाइटेड किंगडम में तेजी से पांव पसार रहे इस्लामिक आतंकवाद पर ध्यान दीजिए। हम लोग आतंकवाद के खिलाफ अच्छा कर रहे हैं।’

दरअसल कुछ दिनों पहले ब्रिटिश प्रधानमंत्री के प्रवक्ता ने एक वीडियो पोस्ट किया था जिसके जरिए उन्होंने ट्रंप पर एंटी-मुस्लिम प्रोपगेंडा चलाए जाने का आरोप लगाया गया था। ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीजा मे के प्रवक्ता ने ट्विटर पर कहा था कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा अति दक्षिणपंथी समूह से संबंधित विवादित मुस्लिम विरोधी वीडियो को रीट्वीट करना गलत है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने इसी ट्वीट के जवाब में अपनी प्रतिक्रिया दी। इस दौरान एक दिलचस्प वाकया यह भी हुआ कि ट्रंप का यह ट्वीट थेरेसा मे को ना जाकर किसी और को चला गया जिनका नाम थेरेसा स्क्रीविनर बताया जा रहा है। हालांकि जल्दी ही यह गलती पकड़ में भी आ गई जिसके बाद ट्वीट को तुरंत डिलीट कर दिया गया है और ट्रंप ने दोबारा थेरेसा मे को ट्वीट किया।
ट्विटर पर दो महाशक्तियों के बीच मचे इस घमासान पर यूएस सीनेटर ऑरिन हिच ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। हिच ने ट्वीट कर कहा कि “प्रधानमंत्री थेरेसा मे दुनिया की महान नेता हैं, जिस तरह से वो यूनाइटेड किंगडम का नेतृत्व करती हैं उसके लिए मैं उनका बहुत आदर और उनका सम्मान करता हूं।’ माना जा रहा है कि अमेरिका और ब्रिटेन के रिश्तों में ऐसा पहली बार हुआ है जब दोनों राष्ट्राध्य्क्ष किसी मुद्दे पर आमने-सामने हैं। इससे पहले विंस्टन चर्चिल और फ्रैंकलिन रुजवेल्ट, मार्गेट थेचर और रोनाल्ड रेगन तथा टोनी ब्लेयर और बिल क्लिंटन जैसे दोनों देशों के चर्चित राष्ट्राध्यक्षों के बीच आपसी समझदारी और तालमेल काफी बेहतर मानी जाती है।
वहीं,‘ब्रिटेन फर्स्ट’ के भड़काऊ मुस्लिम विरोधी वीडियो को ट्रंप द्वारा रीट्वीट करने की खबर सामने आने के बाद लेबर पार्टी के नेता और उनके अनेक सांसदों ने सोशल मीडिया पर इसकी आलोचना की। आपको बता दें कि जिस वीडियो को लेकर विवाद चल रहा है उस वीडियो में दिख रहा है कि मुस्लिमों का एक ग्रुप एक बच्चे को छत से धक्का दे रहा है। इसके अलावा वीडियो में एक मुसलमान शख्स मैरी की प्रतिमा तोड़ते हुए दिखाई दे रहा है। जबकि एक अन्य वीडियो में यह दावा किया गया है कि एक मुस्लिम शख्स डच लड़के को पीट रहा है। जल्द ही इस वीडियो की विश्वसनीयता पर भी सवाल उठ गए। यूके के विदेश सचिव बॉरेन जॉनसन ने कहा है कि यूनाइटेड किंगडम का एक गौरवमयी इतिहास रहा है, यहां ‘हेट स्पीच’ के लिए कोई जगह नहीं है।