सरकार की बात

छिन्दवाड़ा में उद्यानिकी महाविद्यालय खोला जायेगा – मुख्यमंत्री श्री चौहान

chhindwara

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज पुलिस परेड ग्राउंड छिन्दवाड़ा में मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना के अंतर्गत पंजीकृत किसानों को भावांतर की राशि वितरण कार्यक्रम और विवेकानंद जयंती के अवसर पर युवा दिवस पर युवाओं से कहा कि युवाओं में अनंत शक्ति का भंडार होता है, दुनिया में कोई भी काम ऐसा नहीं जो युवा नहीं कर सकते है। उन्होंने युवाओं में युवा शक्ति का संचार करते हुये विद्यार्थियों से कहा कि यदि उन्हें सुविधा मिल जाये तो वे चमत्कार कर सकते है और परिवार, प्रदेश व देश का नाम रोशन कर सकते हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना के अंतर्गत पंजीकृत 32 हजार 309 किसानों को 64 करोड़ 3 लाख 43 हजार 279 रूपये की भावांतर राशि के भुगतान प्रमाण पत्र प्रदान किये और इलेक्ट्रानिक सिस्टम से बटन दबाकर किसानों के खाते में राशि जमा की। उन्होंने 24.58 करोड़ रूपये लागत की योजनाओं का भूमिपूजन और लोकार्पण किया और हितग्राहियों को ऋण एवं अनुदान राशि के चैक के साथ ही विभिन्न योजनाओं में प्रमाण पत्र भी वितरित किये।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बारहवीं के विद्यार्थियों से कहा कि 75 प्रतिशत या उससे अधिक अंक लाने पर उन्हें मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना के अंतर्गत उच्च शैक्षणिक संस्थाओं में प्रवेश लेने पर सरकार द्वारा उनकी फीस भुगतान का प्रावधान किया गया हैं, किंतु 75 प्रतिशत अंक कुछ ज्यादा होते है, इसलिये अब 70 प्रतिशत अंक लाने पर भी उन्हें मुख्यमंत्री मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना का लाभ मिलेगा। उन्होंने प्रारंभ में गौ-पूजन व कन्या पूजन करते हुये कहा कि कन्या पूजन से ऊर्जा व ताकत मिलती है। बेटियां हमारी संस्कृति में देवियां है, बेटे के समान बेटियों को भी माने और उनका सम्मान करें। उन्होंने सरकारी नौकरी में बेटियों को दिये जाने वाले आरक्षण के संबंध में भी चर्चा करते हुये कहा कि वन विभाग को छोडकर सभी विभागों में शासकीय नौकरी में 33 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया गया है। उन्होंने बेटियों के साथ होने वाले दुराचार के संबंध में कहा कि दुराचार करने वालों को फांसी देने के संबंध में विधानसभा में पारित अधिनियम को राष्ट्रपति के पास स्वीकृति के लिये भेजा गया है। उन्होंने खेती को लाभ का धंधा बनाने के संदर्भ में कहा कि पिछले 10 सालों के दौरान सिंचाई का रकबा 40 लाख हैक्टेयर तक बढ़ाया गया है। उन्होंने पेंच व्यपवर्तन परिवर्तन योजना के संबंध में कहा कि इस परियोजना का परीक्षण कर माईक्रो ईरीग्रेशन के संबंध में सर्वेक्षण कराने के साथ सिंचाई का रकबा बढ़ाया जायेगा।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना के संबंध में कहा कि यह योजना किसानों को उचित दाम देने और उन्हे अधिक से अधिक लाभ दिलाने के उद्देश्य से लाई गई है जिसके अच्छे परिणाम सामने आये है और केन्द्र एवं अन्य राज्यों के दल इस योजना की जानकारी लेने प्रदेश में आ रहे है। यह योजना किसानों के लाभ की दृष्टि से पूरे हिन्दुस्तान के लिये रोल मॉडल बनेगी और देश के अन्य राज्यों में भी इसे लागू किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि खेती को लाभ का धंधा बनाने के लिये हर संभव प्रयास किया जायेगा। पहले किसानों को 18 प्रतिशत ब्याज पर कर्जा मिलता था जिसे धीरे-धीरे कम करते हुये अब बिना ब्याज के कर्जा दिया जा रहा है और 10 प्रतिशत कृषि अनुदान भी दिया जा रहा है। उन्होंने कृषकों से आव्हान किया कि बेहतर खेती के साथ वैकल्पिक रोजगार की दृष्टि से दूसरे काम धंधे भी करें। इसके लिये युवा कृषक उद्यमी योजना के अंतर्गत युवाओं को 10 लाख रूपये से 2 करोड़ रूपये का ऋण उपलब्ध कराया जायेगा जिसकी गारंटी सरकार लेगी। मुख्यमंत्री ने प्राकृतिक आपदा में दी जाने वाली सहायता, प्रधानमंत्री आवास योजना की प्रगति व भावी कार्य योजना की जानकारी देने के साथ ही कहा कि अब नई रेत नीति के अंतर्गत रेत खदानों की नीलामी नहीं की जायेगी और पंचायतों में या ऑन लाईन 125 रूपये की रायल्टी जमा कर एक ट्रॉली रेट खरीदी जा सकती है। इस खरीदी की मात्रा पर कोई बंदिश नहीं रहेगी। उन्होंने कहा कि महिलाओं के सशक्तिकरण के लिये महिला स्व-सहायता समूहों को टेक होम योजना के अंतर्गत भोजन बनाने का कार्य दिया जायेगा। इसके लिये महिलाओं के फेडरेशन का गठन कर उन्हे ऋण सुविधा के साथ ही गारंटी भी दी जायेगी जिससे लगभग 250 करोड़ रूपये उनके खाते में जमा हो सकेंगे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अब छात्र-छात्राओं की गणवेश के लिये खाते में राशि जमा नहीं की जायेगी, बल्कि उन्हे गणवेश सिलवाकर दी जायेगी। इसके लिये भी महिला स्व-सहायता समूहों के फेडरेशन के माध्यम से महिलाओं को रोजगार उपलब्ध कराया जायेगा और इस कार्य में भी उनके खाते में लगभग 250 करोड़ रूपये जमा हो सकेंगे। उन्होंने कहा कि छिन्दवाड़ा नगर निगम क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ग्रामों में सड़क संपर्क के लिये एक विशेष पैकेज दिया जायेगा तथा इस साल के अंत तक सभी गांवों को पक्की सड़कों से जोड़ा जायेगा। उन्होंने भूमिहीनों को रहने के लिये जमीन का पट्टा देने, कन्हरगांव से छिन्दवाड़ा तक ग्रेविटी पाईप लाईन बिछाने, लालबाग से नरसिंहपुर रोड धरम टेकडी तक मॉडल रोड बनाने को कहा। इसके साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में खेलकूद मैदान निर्माण के लिये एक करोड़ रूपये की राशि देने, छिन्‍दवाडा में खेल स्टेडियम बनाने की प्रक्रिया शुरू करने, पुरानी सड़को की मरम्मत और डामरीकरण के लिये 5 करोड़ रूपये देने की घोषण की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पेंच व्यपवर्तन परियोजना के डूब क्षेत्र के ग्राम भूलामोहगांव की पुनर्वास की समस्या दूर कर इस ग्राम को राजस्व ग्राम घोषित करने और इस ग्राम में प्राथमिक एवं माध्यमिक शाला खोलने के लिये कहा। उन्होंने छिन्दवाड़ा में उद्यानिकी महाविद्यालय खोलने की घोषणा करते हुये कहा कि छिन्दवाड़ा को स्वच्छता, विकास और शिक्षा के क्षेत्र में आगे लाने का प्रयास करें और विकसित छिन्दवाड़ा बनाने का ऐसा उदाहरण प्रस्तुत करें जिस पर जिले के नागरिकों के साथ ही पूरे देश गर्व करें।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्यक्रम में छिन्दवाड़ा में दीनदयाल अंत्योदय रसोई योजना के अंतर्गत संचालित दीनदयाल रसोई की सराहना की और 3.50 लाख रूपये लागत की रोटी बनाने वाली मशीन का लोकार्पण भी किया। श्री चौहान ने गोधूली आश्रम और दीनदयाल अंत्योदय रसोई को आई.एस.ओ. प्रमाण पत्र भी प्रदान किया। उन्होंने 12 करोड़ 11 लाख 82 हजार रूपये लागत की नगर पंचायत बड़कुही की जल आवर्धन योजना, किसान सड़क निधि की एक करोड़ 23 लाख 51 हजार रूपये लागत के ग्राम बोरगांव के बहुउद्देशीय वाणिज्यिक कृषक सेवा केन्द्र और एक करोड़ 19 लाख 24 हजार रूपये लागत के ग्राम खैरीभोपाल के बहुउद्देशीय वाणिज्यिक कृषक सेवा केन्द्र का लोकार्पण एवं छिन्दवाड़ा नगर निगम क्षेत्र में मुख्यमंत्री अधोसंरचना विकास के अंतर्गत 10 करोड़ रूपये लागत की मॉडल रोड निर्माण कार्य का भूमिपूजन भी किया। उन्होंने महिलाओं के सम्मान और सुरक्षा के लिये 1100 मीटर लंबे कपड़े पर हस्ताक्षर अभियान का कपडे पर हस्ताक्षर कर शुभारंभ करने के साथ ही स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 के पोस्ट कार्ड का विमोचन भी किया। उन्होंने मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना, मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना, मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना के चैक, स्वीकृति पत्र और पासबुक का वितरण, मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा योजना के अंतर्गत पात्रता पर्ची, मुख्यमंत्री बाल श्रवण उपचार योजना के अंतर्गत पुरस्कार, स्मार्ट फोन, प्रधानमंत्री आवास योजना घटक के प्रमाण पत्र, आवासहीन व्यक्तियों को पट्टा के साथ ही बालिकाओं को लाडली लक्ष्मी योजना के प्रमाण पत्र का वितरण भी किया।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुये प्रदेश के किसान कल्याण तथा कृषि विकास एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन ने प्रदेश सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं के संबंध में विस्तार से जानकारी दी जिसमें मुख्य रूप से प्राकृतिक आपदा में सहायता और भावांतर भुगतान आदि मुख्य रूप से थे। कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती कांता ठाकुर, नगर निगम महापौर श्रीमती कांता सदारंग, भारिया विकास प्राधिकरण अध्यक्ष श्रीमती उर्मिला भारती, महाकौशल विकास प्राधिकरण उपाध्यक्ष श्री संतोष जैन, विधायकगण सर्वश्री चौधरी चन्द्रभान सिंह, नानाभाऊ मोहोड, पं. रमेश दुबे और नत्थन शाह कवरेती, जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री शैलेन्द्र रघुवंशी, नगर निगम अध्यक्ष श्री धर्मेन्द्र मिगलानी, जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक अध्यक्ष श्री मारोतराव खवसे, कृषि उपज मंडी अध्यक्ष श्री शेषराव यादव और जिला पंचायत की कृषि स्थायी समिति की सभापति श्रीमती मानवती शाह इवनाती, पिपलानाराणवार नगर पंचायत अध्यक्ष श्री राजू परमार विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे। इस अवसर पर संभाग आयुक्त श्री गुलशन बामरा, आई.जी.श्री अनंत कुमार सिंह, डी.आई.जी. श्री जी.के.पाठक, कलेक्टर श्री जे.के.जैन, पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री रोहित सिंह, प्रभारी अतिरिक्त कलेक्टर श्री राजेश शाही सहित सभी अधिकारी, जनप्रतिनिधिगण, पत्रकार और बड़ी संख्या में नागरिकगण उपस्थित थे।