भड़ास

पूर्व आप नेता ने अरविंद केजरीवाल को कहा दिल्‍ली का ऑफिशियल लालू

Kejri-Kapil

पीडब्ल्यूडी घोटाले में अरविंद केजरीवाल के एक रिश्तेदार की गिरफ्तारी के बाद पूर्व आप नेता कपिल मिश्रा ने दिल्ली सीएम पर हमला बोला है। कपिल मिश्रा ने इस गिरफ्तारी के बाद अरविंद केजरीवाल को दिल्ली का ऑफिशियल लालू बताया है और अरविंद केजरीवाल पर अपने रिश्तेदारों को बचाने का आरोप लगाया है। बता दें कि भ्रष्टाचार विरोधी इकाई ने पीडब्ल्यूडी घोटाले के सिलसिले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के एक रिश्तेदार को गुरुवार (10 मई) को गिरफ्तार किया। एसीबी प्रमुख अरविन्द दीप ने बताया कि केजरीवाल के साढ़ू के बेटे विनय बंसल को सुबह गिरफ्तार कर लिया गया। एसीबी ने पिछले साल नौ मई को तीन प्राथमिकियां दर्ज की थीं। इसमें से एक प्राथमिकी सुरेन्द्र बंसल द्वारा संचालित कंपनी के खिलाफ भी दर्ज हुई थी। सुरेन्द्र बंसल मुख्यमंत्री के साढू हैं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के एक करीबी रिश्तेदार विनय बंसल को पक्षपातपूर्ण तरीके से सरकारी काम का ठेका देने की शिकायत को आम आदमी पार्टी ने गलत बताया है और साथ ही कहा कि यह मुख्यमंत्री की छवि धूमिल करने की साजिश है। पार्टी के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने आज इस मामले में मुख्यमंत्री का बचाव करते हेतु निर्माण कार्य परियोजना की निविदा प्रक्रिया में धांधली के आरोप को गलत बताया। उन्होंने दलील दी कि लोक निर्माण विभाग द्वारा सरकारी निर्माण कार्य के लिये जनवरी 2015 में निविदा जारी की गयी थी जबकि केजरीवाल सरकार फरवरी 2015 में वजूद में आयी थी।

इसके बाद कपिल मिश्रा ने कहा कि केजरीवाल गैंग का कहना है कि इस काम को PWD द्वारा तीसरी पार्टी से जांच में क्लीन चिट दिया जा चुका है। कपिल मिश्रा ने ट्वीट किया, “केजरीवाल गैंग – इस काम की PWD द्वारा Third Party Inspection में क्लीन चिट हो चुकी है, PWD का मंत्री सत्येंद्र जैन कहते हैं कि क्लीन चिट तो मिलनी ही थी, ऐसी कई क्लीन चिट लालू को भी मिली, जेल जाने पर लालू के परिवार ने भी कहा- राजनैतिक साजिश, Kejriwal is now “Officially” – दिल्ली का लालू।” बता दें कि एक शिकायत में रोडस एंट्री करप्शन ऑर्गनाइजेशन (आरएसीओ) के संस्थापक राहुल शर्मा ने आरोप लगाया कि केजरीवाल और पीडब्ल्यूडी मंत्री सत्येन्द्र जैन ने बंसल को ठेका देने के लिए अपने पद का दुरूपयोग किया। हालांकि प्राथमिकी में उनका नाम नहीं था।